Uttarakhand Goverment Portal, India (External Website that opens in a new window) http://india.gov.in, the National Portal of India (External Website that opens in a new window)

नवीन जानकारीStop

more...

Hit Counter 0000640688 Since: 06-11-2013

प्रथम सत्र 2009

प्रिंट

उत्तराखण्ड विधान सभा के 24 फरवरी, 2009 से 27 फरवरी, 2009 तक चले अधिवेशन के दौरान निष्पादित हुए कार्य का सारांश

उत्तराखण्ड की द्वितीय विधान सभा 2009 का प्रथम सत्र 24 फरवरी, 2009 को महामहिम राज्यपाल के अभिभाषण से प्रारम्भ हुआ तथा 27 फरवरी, 2009 को अनिश्चित काल के लिए स्थगित हो गया। सत्र में सदन द्वारा राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा व पारण, वित्तीय वर्ष 2009-10 के एक भाग के लिए लेखानुदान का प्रस्तुतीकरण, विचार तथा पारण व कुछ महत्वपूर्ण विधेयकों पर विचार एवं पारण आदि मुख्य कार्य निष्पादित किये गये। सत्र में कुल मिलाकर 4 उपवेशन हुए। उपवेशनों के दौरान महत्वपूर्ण कार्य के निष्पादन के पश्चात 27 फरवरी, 2009 को सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गया।
सत्र के दौरान सदन द्वारा भारत के पूर्व राष्ट्रपति स्व0 श्री रामास्वामी वेंकटरमन व पूर्व सदस्य श्री राजेन्द्र सिंह को श्रृद्धांजली अर्पित की गयी। मा0 अध्यक्ष, मा0 संसदीय कार्य मंत्री, कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी एवं उत्तराखण्ड क्रान्ति दल के संसदीय दलों के नेताओं तथा अन्य सदस्यों ने दिवंगत आत्माओं के प्रति शोक संवेदनाएं प्रकट की।
सदन द्वारा राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर दिनांक 25, 26 व 27 फरवरी, 2009 चर्चा हुई जिसमें 18 मा0 सदस्यों ने भाग लिया। 27 फरवरी, 2009 को श्री केदार सिंह फोनिया के उत्तर भाषण के उपरान्त उनके द्वारा प्रस्तुत धन्यवाद का प्रस्ताव मूलरूप में स्वीकृत हुआ।
संसदीय कार्यमंत्री ने 25 फरवरी, 2009 को वित्तीय वर्ष 2009-2010  के एक भाग के लिए लेखानुदान प्रस्तुत किया जिस पर 25 एवं 26 फरवरी, 2009 को चर्चा हुई तथा दिनांक 26 फरवरी, 2009 को लेखानुदान पारित हुआ।
सत्र में प्रश्न काल में कुल मिलाकर 23 सदस्यों ने प्रश्नों की सूचनाएं पटल पर रखीं। कुल 508 प्रश्नों की सूचनाएं प्राप्त हुईं जिसमें तारांकित एवं अतारांकित प्रश्न भी सम्मलित थे। इनमे से 134 को तारांकित, 241 को अतारांकित तथा 1 को अल्पसूचित प्रश्न के रूप में स्वीकार किया गया। कुल 124 प्रश्न पूछे गये तथा उत्तर दिये गये जिनमें से 43 तारांकित, 80 अतारांकित तथा 1 अल्पसूचित प्रश्न थे।     
उत्तराखण्ड विधान सभा की प्रक्रिया तथा कार्य संचालन नियमावली के नियम 300 के अर्न्तगत 61 सूचनाएं प्राप्त हुई, जिसमें से 46 स्वीकृत हुई, कार्य स्थगन की 113 सूचनाएं प्राप्त हुई जिसमें से 41 को ग्राह्यता पर सुना गया। सुनने के पश्चात सभी अस्वीकृत हुई। नियम 53 के अर्न्तगत 54 सूचनाएं प्राप्त हुई जिसमंे से 25 स्वीकृत हुई।
25 फरवरी 2009 को सचिव, विधान सभा ने घोषणा की कि निम्नलिखित विधेयक, जिन्हें विधान सभा द्वारा पारित किया गया था पर महामहिम राज्यपाल की अनुमति प्राप्त हो गयी तथा वे उत्तराखण्ड के अधिनियम बन गए:-

क्र0सं0    नाम    दिनांक    वर्ष 2008
अधिनियम सं0


        सदन द्वारा पारण    अनुमति प्राप्ति    
1    उत्तराखण्ड विनियोग (2008-2009 का अनुपूरक) विधेयक, 2008    17.12.2008    19.12.2008    8
2    उत्तराखण्ड (उ0 प्र0 राज्य विधान मण्डल (अनर्हता निवारण) अधिनियम, 1971) (संशोधन) विधेयक, 2008    16.12.2008    19.12.2008    9
3    उत्तराखण्ड मूल्य वर्धित कर (द्वितीय संशोधन) विधेयक, 2008    17.12.2008    19.12.2008    10
4    उत्तराखण्ड प्राविधिक शिक्षा परिषद (संशोधन) विधेयक, 2008    18.12.2008    22.12.2008    11
5    उत्तराखण्ड (उ0 प्र0 जल संभरण तथा सीवर व्यवस्था अधिनियम, 1975) (संशोधन) विधेयक, 2008    17.12.2008    24.12.2008    12
6    उत्तराखण्ड माल के स्थानीय क्षेत्रों में प्रवेश पर कर विधेयक, 2008    19.12.2008    24.12.2008    13
7    उत्तराखण्ड पंचायत विधि (संशोधन) विधेयक, 2008    18.12.2008    24.12.2008    14
8    उत्तराखण्ड (उ0 प्र0 विशिष्ट क्षेत्र विकास प्राधिकरण  अधिनियम, 1986) अनुकूलन एवं उपान्तरण आदेश, 2006 (संशोधन) विधेयक, 2008    16.12.2008    30.12.2008    वर्ष 2009 का पहला अधिनियम


सत्रावधि में निम्न पत्र सदन के पटल पर रखे गयेः-
1ण्    कम्पनी एक्ट 1956 की धारा-। (2) के अधीन उत्तराखण्ड पावर कारपोरेशन लिमिटेड की वित्तीय वर्ष, 2004-05 की वार्षिक रिपोर्ट।
2ण्    उत्तराखण्ड सहकारी अधिनियम 2003 की धारा 131 (1) के अन्तर्गत निर्गत की गयी अधिसूचना सं0- 843ध्ग्प्ट.1ध्2008ए दिनांक 07 अक्टूबर, 2008।
3ण्    उत्तराखण्ड विधान सभा के वर्ष, 2008 के तृतीय सत्र में, उत्तराखण्ड विधान सभा की प्रक्रिया तथा कार्य संचालन नियमावली, 2005 के नियम-300 के अन्तर्गत प्राप्त सूचनाओं पर कृत कार्यवाही का विवरण, अध्यक्ष, उत्तराखण्ड विधान सभा द्वारा जारी किये गये प्रक्रिया संबंधी निदेश संख्या-14 (3) की अपेक्षानुसार।
विधान सभा द्वारा निम्नलिखित विधेयकों का पुरःस्थापन विचार एवं पारण किया गयाः-
1.    उत्तराखण्ड (उत्तर प्रदेश आमोद और पणकर अधिनियम, 1979) (संशोधन) विधेयक, 2009
2.    उत्तराखण्ड (उत्तर प्रदेश लोक सेवा (शारीरिक रूप से विकलांग, स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के आश्रित और भूतपूर्व सैनिकों के लिए आरक्षण) अधिनियम 1993 (संशोधन) विधेयक, 2009
3.    उत्तराखण्ड विनियोग (लेखानुदान) विधेयक, 2009
4.    पैट्रोलियम एवं ऊर्जा अध्ययन विश्वविद्यालय अधिनियम, 2003 (संशोधन) विधेयक, 2009
5.    इक्फाई विश्वविद्यालय अधिनियम, 2003 (संशोधन) विधेयक, 2009
6.    देव संस्कृति विश्वविद्यालय अधिनियम, 2002 (संशोधन) विधेयक, 2009
7.    हिमगिरी नभ विश्वविद्यालय (यूनिवर्सिटी इन स्काई) अधिनियम, 2003 (संशोधन) विधेयक, 2009
8.    पतंजलि विश्वविद्यालय अधिनियम, 2006 (संशोधन) विधेयक, 2009
9.    उत्तराखण्ड परा चिकित्सा परिषद विधेयक, 2009

27 फरवरी, 2009 के उपवेशन की समाप्ति पर मा0 अध्यक्ष द्वारा सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित किया गया। 28 फरवरी, 2009 को महामहिम राज्यपाल द्वारा सत्रावसान की घोषणा कर दी गई।